हरयाणा के डॉक्टर

कोई भी हरियाणा से बाहर का डाक्टर हरियाणा
में आकर डाक्टर की दुकान नहीं खोल सकता

क्यों? 😉😉

क्योंकि हरियाणा के मरीज की बिमारी हरियाणा के डाक्टर के अलावा कोई समझ ही नहीं सकता

जैसे :-

“भीतरले म धूमा सा उठै है”
“आख्या म त झल सी लकडै हैं”
“गात में उचाटी सी लाग री है।”
“जी कुलमुलावे है।”
“पेट मे धुकड़ धुकड़ हो री है।”
“हाथ झूठे पड़ रे स”
“हरकत हो री स”
“कालजा लकड लकड बाहर आवे”
“काना मै चिड़िया सी बोले सै”
“कड़ मै तरेड़ सी पाटै सै”
“घंघेला से उठ रह्या सिर म्ह”
“हाथ पाया म्ह जान सी नी रही”
“सारी रैत उल्टा-सीधा दिखे गया”

ऐसी ऐसी बीमारी सुनकर अच्छे अच्छे MBBS को अपनी डिग्री पर शक हो जाता है कि साला कहीं ये Chapter छूट तो नहीं गया था।।।

😀😀😀

Leave a Reply

Loading...